किन देवी-देवताओं को चढ़ाएं कौन-सा फूल

Video Description

ऐसी मान्यता है कि देवी देवताओं को उनकी पसंद के पुष्प यानी फूल चढ़ाने से वे अति प्रसन्न होते हैं और साधक की हर मनोकामना पूरी कर सकते हैं. तो चलिए आज हम आपको बता रहे हैं कि किस देवता को कौन से फूल पसंद हैं. सबसे पहले शुरू करते हैं श्री गणेशजी जी से ऐसी मान्यता है कि गणेश जी को तुलसी छोड़कर हर तरह के फूल पसंद हैं. खास बात यह है कि गणपति को दूब अधिक प्रिय है. दूब की फुनगी में 3 या 5 पत्त‍ियां हों, तो इसे ज्यादा अच्छा माना जाता है . भगवान भोलेनात को सभी सुगंधित फूल पंसद हैं. जिनमें चमेली, श्वेत कमल, शमी, मौलसिरी, पाटला, नागचंपा, धतूरा, शमी, खस, गूलर, पलाश, बेलपत्र, केसर उन्हें सबसे प्रिय हैं. वहीं ऐसा कहा जाता है कि भगवान विष्णु को तुलसी अति प्रिय हैं. काली तुलसी और गौरी तुलसी, उन्हें दोनों ही पंसद हैं.जब कभी भी आप भगवान विष्णु की आराधना करने जाए तो तुलसी के साथ कमल, बेला, चमेली, गूमा, खैर, शमी, चंपा, मालती, कुंद आदि फूल उनपर अर्पित कर सकते हैं. मा काली को अड़हुल का पुष्प बहुत पसंद हैं. कहते हैं कि जो साधक सच्चे मान से माता काली को १०८ अड़हूल के पुष्प अर्पित करता हैं मा काली उसकी समस्त मनोकामना को पूर्ण करती हैं. वही मां दुर्गा को आप कोई भी लाल पुष्प अर्पित कर सकते हैं. वही हनुमान जी को भी हनुमानजी को भी लाल फूल चढ़ाया जाता है अब बात करते हैं भगवान सूर्य की .तो भगवान सूर्य को आक का फूल सबसे ज्यादा प्रिय है. शास्त्रों में कहा गया है कि अगर सूर्य को एक आक का फूल अर्पण कर दिया जाए, तो सोने की 10 अशर्फियां चढ़ाने का फल मिल जाता है. उड़हुल, कनेर, शमी, नीलकमल, लाल कमल, बेला, मालती, अगस्त्य आदि चढ़ाने का विधान है. सूर्य पर धतूरा, अपराजिता, अमड़ा, तगर आदि नहीं चढ़ाना चाहिए. . वही मां लक्ष्मी को प्रसस्न करने के लिए पीला फूल, श्वेत कमल और लाल गुलाब अर्पित किया जाता है. तो वही भगवान श्री कृष्ण को चणक, मालती कुमुद, कारवरी, पलाश व वनमाला के पुष्प से सुजज्जित किया जाता है2a

Join more than 1 million learners

On Spark.Live, you can learn from Top Trainers right from the comfort of your home, on Live Video. Discover Live Interactive Learning, now.