शादी शुदा जीवन में क्या है माता पिता का रोल ?

Video Description

आपके माता-पिता ने आपकी खातिर जो कुछ किया है उसके लिए उनका एहसान मानिए। इस तरह आप उनका आदर कर रहे होंगे। आप उनकी सिखायी हुई बातों को मानकर उनके लिए कदर दिखा सकते हैं।खासकर जवानी में जब आप यह बात अच्छी तरह समझते हैं कि आप पर अधिकार उन्हें परमेश्‍वर ने दिया है, तो आप उनका आदर कर रहे होते हैं। इसमें अकसर यह शामिल है कि आप क्या कहते हैं और किस लहज़े में कहते हैं। यह सच है कि कई बार माता-पिता इस तरह पेश आते हैं कि बच्चों के लिए उनका आदर करना मुश्‍किल हो सकता है। तब भी उन्हें माता-पिता का आदर करना चाहिए। उन्हें ऐसी कोई बात नहीं कहनी चाहिए और न ही ऐसा कोई काम करना चाहिए जिससे उनका अनादर हो। बुढ़ापे में माता-पिता को आपके सहारे की ज़रूरत पड़ सकती है। यह जानने की कोशिश कीजिए कि उन्हें किस चीज़ की ज़रूरत है और उसे पूरा कीजिए।इस मामले में हम यीशु से सीख सकते हैं। अपनी मौत से ठीक पहले उसने इंतज़ाम किया कि उसकी माँ की देखभाल की जाए।“अपने पिता और अपनी माँ का आदर करना,” यह आज्ञा बाइबल में कई बार दी गयी है।

Join more than 1 million learners

On Spark.Live, you can learn from Top Trainers right from the comfort of your home, on Live Video. Discover Live Interactive Learning, now.