फंगस से छुटकारा पाने के लिए दादी मां का नुस्ख़ा

Video Description

नीम की पत्तियों से फंगस को दूर किया जा सकता हैं। इसके लिए एरण्‍ड के तेल और नारियल के तेल को एक साथ मिलाकर शरीर में जख्‍म वाले भाग पर रोजाना लगाने से फंगस जल्‍दी ही ठीक हो जाता है। गेहूं के ज्‍वारे गेहूं के ज्‍वारे के रस में मौजूद क्‍लोरोफिल और एंटीसेप्टिक लाभ के कारण संक्रमण को काबू और बेअसर करने में बहुत ही लाभकारी होता है। इसके सेवन से योनि संक्रमण से छुटकारा पाने में भी मदद मिलती हैं। गेहूं के ज्‍वारे के रस में मौजूद क्लोरोफिल शरीर के अंदर और बाहर औषधीय मरहम के तौर इस्तेमाल किया जाता है। एलोवेरा जैल एलोवेरा जेल को फंगस पर लगाने से राहत मिलती है। इसके लिए घर में लगे एलोवेरा के पौधे की पत्‍ती को काट लें और उसमें से निकलने वाले जैल को फंगस वाली जगह पर लगा लें। दिन में कम से कम चार से पांच बार ऐसा करने पर आपको आराम मिलेगा। लहसुन लहसुन को प्राचीन काल से ही स्‍वास्‍थ्‍य से जुड़ी परेशानियों के लिए प्राकृतिक उपचार माना जाता है। लहसुन में एंटीबैक्टीरियल, एंटीसेप्टिक और एंटीफंगल गुण मौजूद होते हैं। शोधकर्ताओं के अनुसार इसमें मौजूद अजोएने एक शक्तिशाली यौगिक है जिसको फंगस से लड़ने वाली उत्‍कृष्‍ट जड़ी बूटी माना जाता है। लौंग बेहतरीन एंटीसेप्टिक लौंग और इससे बने तेल में एंटीसेप्टिक गुण होते हैं जिससे फंगल संक्रमण, कटने, जलने, घाव हो जाने या त्वचा संबंधी अन्य समस्याओं के उपचार में इसका इस्तेमाल किया जाता है। लेकिन इसके इस्‍तेमाल से पहले एक बात का ध्‍यान रखें कि इसे सीधे त्वचा पर न लगाकर किसी तेल में मिलाकर लगाना चाहिए। हल्‍दी लंबे समय से हल्दी को सबसे प्रबल फंगस विरोधी जड़ी बूटी के रूप में माना जाता है। एंटीमाइक्रोबियल कीमोथेरेपी के जर्नल पर प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, हल्दी में शामिल करक्युमिन एक पॉवरफूल कम्पाउन्ड है जो कैंडिडा संक्रमण को बढ़ने और फैलने को रोकने के काम आता हैं।

Join more than 1 million learners

On Spark.Live, you can learn from Top Trainers right from the comfort of your home, on Live Video. Discover Live Interactive Learning, now.