Read Home » हिंदी लेख पढ़ें » स्वास्थ्य और तंदुस्र्स्ती » World Suicide Prevention Day 2020: क्या होता है डिप्रेशन और कैसे ये सुसाइड के लिए उकसाता है? | What is Depression and how does it provoke suicide?

World Suicide Prevention Day 2020: क्या होता है डिप्रेशन और कैसे ये सुसाइड के लिए उकसाता है? | What is Depression and how does it provoke suicide?

  • द्वारा
World Suicide Prevention Day 2020

आज यानि की 10 सितंबर दुनियाभर में (World Suicide Prevention Day 2020 ) ‘वर्ल्ड सुसाइड प्रिवेंशन डे’ मनाया जा रहा है। हालांकि इस समय हर कोई इस बात से वाकिफ है पूरे विश्व के लिए यह समय मुश्किल भरा गुजर रहा है, ऐसे में बात करें मानसिक अवस्था की तो तमाम सर्वे से पता चला है कि इस कोरोना काल में ज्यादातर लोग डिप्रेशन का शिकार हो गए है। हालांकि हम सभी डिप्रेशन को उतना गंभीर रूप से नहीं लेते हैं जितना लेना चाहिए पर क्या आपको ये पता है कि यह एक ऐसी बीमारी है जिसे सही समय पर न पकड़ा जाए तो यह इंसान की जान भी ले सकती है ? ये हम आपको डराने के लिए नहीं कह रहे बल्कि सचेत कर रहे ताकि आप डिप्रेशन जैसी समस्या को आप हरा सके।

वर्ल्ड सुसाइड प्रिवेंशन डे | World Suicide Prevention Day 2020

सबसे पहले बात करते हैं इस विशेष दिन की, जो पूरे दुनिया के लिए महत्वपूर्ण है। दरअसल 10 सितंबर को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ‘वर्ल्ड सुसाइड प्रिवेंशन डे’ यानी कि ‘आत्महत्या रोकथाम दिवस’ के रूप में मनाया जाता है। सरल शब्दों में समझें तो ये एक ऐसा दिन है जिस दिन दुनिया में बढ़ते सुसाइड केसेज को किस तरह से रोका जाए इसे लेकर चर्चा होती है । वहीं ये भी विचार किया जाता है कि इसके रोकथाम के लिए क्या आवश्यक कदम उठाए जाया। जैसा कि आप सभी ये जानते ही हैं कि इस कोरोना काल में सुसाइड केस मामले बहुत ज्यादा बढ़ गए हैं। डब्लूएचओ का मानना है भारत में खुदकुशी किस तरह से महामारी का रूप ले रही है, इसका भी जिक्र किया गया। शीर्ष 20 देशों में जहां पर लोग अपनी जान देने को उतारू हैं उसमें भारत भी शुमार था।

यह भी पढ़ें : अवसाद / डिप्रेशन से निजात पाने के लिए योग है बेस्ट ऑप्शन

सर्वे की मानें तो हर 40 सेकेंड में एक शख्स आत्महत्या कर रहा है। कोरोना काल की बात की जाए तो कई लोगों की नौकरी गई तो कई जहां थे वहीं फस गए, तो कुछ अपने परिवार के साथ समय बिताकर काफी खुश हैं। ऐसे में कई लोगों को अकेलापन भी महसूस हो रहा वहीं कुछ लोग के हाथ से नौकरी भी चली गई है जिसकी वजह से वो डिप्रेशन में चले गए। ऐसे में इसकी रोकथाम के लिए ये जानना होगा कि क्या होता है डिप्रेशन? और आखिर ये कैसे किसी को सुसाइड करने के लिए मजबूर कर सकता है।

क्या होता है डिप्रेशन ?

डिप्रेशन क्या होता है, इसे समझने के लिए आप ये जान लें कि अगर किसी भी इंसान का दुख, पीड़ा या फिर बुरा महसूस करना ज्यादा लंबे समय तक चलता है तो समझ जाए कि वो डिप्रेशन का शिकार हो गया है। डब्लूएचओ की मानें तो दुनिया में बीमारियों का सबसे बड़ा कारण डिप्रेशन ही है। खास बात ये है कि डिप्रेशन का शिकार सिर्फ वयस्क ही नहीं बल्कि कम उम्र के बच्चे भी हैं।

यह भी पढ़ें : जानें, मानसिक स्वास्थ्य के लिए भारत किस हद तक है प्रतिबद्ध

डिप्रेशन के लक्षण | World Suicide Prevention Day 2020

डिप्रेशन के कुछ लक्षण होते हैं जिनसे आप आसानी से समझ सकते हैं कि व्यक्ति डिप्रेशन से जूझ रहा है।

  • हमेशा उदास रहना
  • अकेले बैठने का मन करना
  • खुदकुशी का ख्याल बार-बार आना
  • रोशनी से चिढ़ना, अंधेरे में बैठने का मन करना
  • जिन कामों को करने में आनंद आता था उनमें रुचि खत्म होना
  • मन शांत न रहना, हमेशा बेचैनी रहना
  • दिमाग कम चलना
  • समझ में न आना क्या सही है क्या गलत
  • खुद को बेकार समझना
  • किसी भी बात पर निर्णय लेने में समस्या आना

Spark.live पर मौजूद बेहतर मनोवैज्ञानिक से संपर्क करने के लिए यहां क्लिक करें

अगर आप चाहे तो चिंता, अवसाद व तनाव विकार के लिए मनोचिकित्सक निशा जॉन से संपर्क कर रहे हैं यह एक नैदानिक मनोवैज्ञानिक हैं। Spark.live नेटवर्क पर मौजूद निशा जॉन आपकी इन समस्याओं से निपटने में बेहतर मदद कर सकती हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *