Read Home » हिंदी लेख पढ़ें » स्वास्थ्य और तंदुस्र्स्ती » जानें, कोरोना कहर में डाइटिशियन से मिलना क्यों है बेहद जरूरी

जानें, कोरोना कहर में डाइटिशियन से मिलना क्यों है बेहद जरूरी

  • द्वारा
importance of dietician

हमारे रोजमर्रा की जिंदगी में जो लापरवाही हम खाने पीने में करते हैं वो हमारे शरीर पर काफी असर करती है। इसलिए कहा जाता है कि स्वस्थ शरीर के लिए अच्छा व संतुलित आहार लेना सबसे जरूरी है। जिस तरह हमारे रोज की दिनचर्या में व्यायाम करना, सोना और आराम करना जरूरी है ठीक उसी तरह से हर रोज संतुलित आहार लेना भी जरूरी है जिसके बारे में एक डाइटिशियन ही बेहतर सलाह दे सकता है। मगर इस बात को समझना भी काफी आवश्यक है कि भोजन करने का मतलब ये नहीं होता है कि कुछ भी खा लिया और पेट भर लिया।

ऐसा हम इसलिए कह रहे हैं क्योंकि अभी भी देश व दुनियाभर में कोरोना से जंग जारी है और इसके लिए हमें हर स्तर पर तैयार रहना होगा। जिसमें हमारे शरीर की प्रतिरोधक क्षमता सही होनी चाहिए और इसके लिए सबसे जरूरी है उचित व संतुलित भोजन करना। अब ये बार-बार जो संतुलित आहार की बात आ रही है इसे सुनकर आपको ये लग रहा होगा कि आखिर हमें कैसे पता चलेगा कि जो हम खा रहे हैं वह संतुलित आहार है या नहीं, या फिर यह भोजन हमारे शरीर के लिए कितना संतुलित है ?

फिट रहने के लिए कितना जरूरी है डाइटिशियन की सलाह

आमतौर पर इस तरह के सवाल के जवाब के लिए हम या तो घर में मौजूद बड़े बुजुर्गों से सलाह लेते हैं या फिर कई बार ऑनलाइन भी इस बारे में सर्च करते हैं। लेकिन आज के ज़माने में लोग काफी समझदार और सतर्क हो गए हैं जिसका नतीजा ये है कि जिस तरह की समस्या आती है लोग उसके ही हाकिम के पास जाना ज्यादा बेहतर समझते है। ऐसे में उचित और संतुलित आहार क्या और कैसा हो इसका जवाब डाइटिशियन के पास मौजूद होता है, जो आपके भोजन को लेकर सही दिशा निर्देश देता है।

यही वजह है कि बड़े बड़े सेलिब्रिटी या फिर बॉलीवुड सितारे या कोई भी फिटनेस फ्रिक व्यक्ति अक्सर ही डाइटिशियन के दिशा निर्देश के अनुसार ही भोजन करते हैं। इसके अलावा आपको यह भी पता होना डाइटिशियनों की मुख्य भूमिका किसी भी व्यक्ति की आयु, रुग्णता अथवा कार्यप्रणाली के आधार पर आहार योजना बनाने में मदद करना होता है। सबसे पहले तो आपको ये बता दें कि अच्छा व संतुलित आहार उसे कहते हैं जिसमें प्रोटीन, वसा, कार्बोहाइड्रेट्स, विटामिंस, इलेक्ट्रोलाइट, एवं मिनरल्स सबकुछ एक निश्चित अनुपात में हो यानि की आपके शरीर की मांग के अनुसार। इसलिए इसकी सही मात्रा का निर्धारण एक डाइटिशियन ही बेहतर तरह से कर सकता है।

डाइटिशियन का कार्य लोगों को आहार संबंधी सही जानकारी और मार्गदर्शन प्रदान करना होता है ताकि आपको संतुलित आहार मिले क्योंकि अगर शरीर को सही और संतुलित पोषक तत्व न मिलें, तो शरीर न सिर्फ कमजोर हो सकता है, बल्कि बीमारियों का घर बन सकता है। इसलिए आज के समय में चाहे युवा हो या बुजुर्ग एक डाइटिशियन की सलाह से ही उसे आहार लेना चाहिए।

इसलिए ऐसे में आपकी मदद कर सकती हैं प्रमाणित आहार विशेषज्ञ मीनल गड़ा, जो कि एक अच्छी डाइटिशियन होने के साथ ही साथ मधुमेह शिक्षक भी हैं। बताते चलें कि मीनल गड़ा ने मास्टर्स इन क्लिनिकल न्यूट्रिशन एंड डायटेटिक्स, बैचलर इन फूड साइंस एंड न्यूट्रिशन के अलावा एडवांस डिप्लोमा इन फिजिकल फिटनेस और वेट ट्रेनिंग भी किया है। इसके अलावा वो आर.डी. मीनल गड़ा हेल्थ बून (न्यूट्रीशन एंड वेलनेस क्लिनिक) की संस्थापक भी हैं। बताते चलें कि उन्हें ऑनलाइन और ऑफलाइन परामर्श सहित 1000 से अधिक ग्राहकों को स्वास्थ्य कोचिंग का अनुभव है। मीनल गड़ा के ऑनलाइन सत्र में आपको न केवल डाइट व वजन से संबंधित सुझाव मिलेंगे बल्कि मधुमेह (टाइप 1 और 2), पीसीओडी, थायराइड, उच्च रक्तचाप, कोलेस्ट्रॉल व बाकी चिकित्सा पोषण में भी जानकारी हासिल होगी।

मीनल गड़ा से संबंधित विस्तृत जानकारी के लिए यहां क्लिक करें!

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *