Read Home » हिंदी लेख पढ़ें » जीवनशैली और रहन-सहन » फ्रेंडशिप डे क्यों मनाया जाता है ? जानें, क्या है इसका इतिहास ?

फ्रेंडशिप डे क्यों मनाया जाता है ? जानें, क्या है इसका इतिहास ?

  • द्वारा
फ्रेंडशिप डे

फ्रेंडशिप डे जो हम सभी हर साल मनाते हैं, इस दिन का इंतजार हम सभी करते हैं चाहे बच्चा हो या बड़ा हर किसी के जीवन में दोस्त होते हैं और उन दोस्तों की एक अलग जगह होती है। एक सच्चे दोस्त के बिना जिंदगी बोरिंग लगने लगती है। दो लोगों के बीच खूबसूरत बंधन को दोस्ती कहा जाता है।दोस्ती में लोग एक दूसरे का सम्मान, देखभाल, प्रशंसा, चिंता और प्यार करते हैं।

हालांकि, इसे परिभाषित नहीं किया जा सकता है। ये इन सबसे भी बढ़कर हो सकता है। कभी-कभी परिवार से बढ़कर भी दोस्त काम आते हैं। कई बातें जो लोग अपनों को शेयर नहीं कर पाते वे दोस्तों को शेयर करते हैं। इसलिए इन सच्चे दोस्तों की याद में हर साल अगस्त के पहले रविवार को फ्रेंडशिप डे मनाया जाता है। इस साल दोस्ती का यह त्योहार मनाया जा रहा है लेकिन क्या कभी आपने सोचा है कि इस दिन की शुरुआत कब और कैसे हुई थी? सबसे पहले आखिर किसने ये दिन मनाया होगा? इस लेख के जरिए आपको इन सभी सवालों के जवाब मिल जाएंगे।

यह भी पढ़ें : व्यक्तित्व विकास: बाहरी सुंदरता के साथ आंतरिक सुंदरता को निखारना है जरूरी

फ्रेंडशिप डे के पीछे ये है कहानी

इसके पीछे की कई सारी कहानियां हैं जो कि प्रचलित हैं। जिसमें एक कहानी बेहद ही दिलचस्प है, दरअसल कहा जाता है कि इसकी शुरुआत साल 1935 में अमेरिका से हुई थी। कहा जाता है कि अगस्त के पहले रविवार को अमेरिकी सरकार ने एक व्यक्ति को मार दिया था। जिसकी याद में उसके एक दोस्त ने आत्महत्या कर ली थी। जिसके बाद सरकार ने उस दिन से अगस्त के पहले रविवार को फ्रेंडशिप डे के रूप में मनाने का निर्णय लिया।

इसके अलावा एक कहानी और है जिसमें बताया गया कि 1920 के दशक में हॉलमार्क कार्ड के संस्थापक जॉयस हॉल के विचार से इस दिवस की शुरूआत की गयी। सर्वप्रथम 1920 में उन्होंने 2 अगस्त को अपने दोस्तों को ग्रीटिंग कार्ड भेजकर फ्रेंडशिप डे मनाने का प्रस्ताव रखा था। लेकिन, लोगों ने इसे गंभीरता से नहीं लिया और व्यापार का एक तरीका बताकर मनाने से इंकार कर दिया। जिसके बाद संयुक्त राज्य अमेरिका (यूएस) कांग्रेस द्वारा आधिकारिक तौर पर इसे 1935 में शुरू किया गया।

फ्रेंडशिप डे का क्या है महत्व ?

फ्रेंडशिप डे मनाने का मुख्य उद्देश्य इंसानों के बीच प्यार और शांति को बढ़ावा देना है। दोस्त वे होते हैं जो सुख-दुख साझा करते हैं और हमारा मार्गदर्शन भी करते हैं। हालांकि, धीरे-धीरे इस दिवस को लोगों ने व्यापार का माध्यम बना दिया है।

हालांकि यह कहना गलत नहीं होगा कि सोशल मीडिया के दौर ने फ्रेंडशिप डे का स्वरूप पहले ही बदल दिया था। पहले लोग अपने दोस्तों को अपनी निशानी का कोई बंधन बांधते थे। जो सोशल मीडिया और इंटनेट के जमाने में डिजीटल ग्रीटिंग्स और मैसेज तक सीमित रह गया है। कोरोना वायरस और लॉकडाउन के कारण बचा हुआ स्वरूप भी बदलने वाला है। लोग सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर इस बार मित्रों को विश करेंगे।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *