Read Home » हिंदी लेख पढ़ें » कल्याण और आध्यात्मिकता » श्राद्ध पक्ष 2020: किसे कहते हैं श्राद्ध, धन प्राप्ति के लिए करें इन चीजों का दान (Who is called Shraddh, donate these things to get wealth)

श्राद्ध पक्ष 2020: किसे कहते हैं श्राद्ध, धन प्राप्ति के लिए करें इन चीजों का दान (Who is called Shraddh, donate these things to get wealth)

  • द्वारा
श्राद्ध पक्ष

हर साल की तरह इस साल भी भाद्र पद की तिथि की पूर्णिमा से शुरू होकर अगले माह यानि की आश्विन तकि की अमावस्या तक श्राद्ध पक्ष मनाया जाता है। इस साल यह पक्ष 2 सितंबर से शुरू हो कर 17 सितंबर तक चलेगा। हम हिंदूओं के लिए श्राद्ध का महिना बेहद खास होता है क्योंकि हर कोई इस माह में अपने पूर्वजों व पितरों के तर्पण हेतु दान-पुण्य करता है। शास्त्रों में कहा गया है कि पितरों की आत्मा की शांति के लिए श्राद्ध में दानपुण्य किया जाना चाहिए।

जानकारी के लिए बता दें कि श्राद्ध का अर्थ होता है श्रद्धा पूर्वक अपने पितरों के प्रति सम्मान प्रकट करना, वहीं सनातान धर्म में इसे अधिक महत्व दिया गया है। लेकिन अभी भी कई सारे लोग ऐसे हैं जिन्हें इसके बारे में कई चीजें नहीं पता है, जैसे कि श्राद्ध किसे कहते हैं या फिर श्राद्ध पर किन चीजों का दान करना जरूरी है। शास्त्रों में कुछ विशेष चीजों का भी वर्णन किया गया है जिनका दान करना अवश्य चाहिए। तो आइए जानते हैं कौन सी है वो चीजें…

यह भी पढ़ें : जन्माष्टमी कब है, यहां मिलेगी सटीक जानकारी (When krishna janmashtami will be celebrated)

श्राद्ध पक्ष में इन चीजों का जरूर करें दान

काला तिल

श्राद्ध में काले तिल का बेहद ही आवश्यक भुमिका होती है, कहा जात है कि इसे दान करने का फल पितरों एवं दान करने वाले दोनों को प्राप्त होता है। शास्त्रों में ये भी कहा गया है कि इस दौरान पितरों के तर्पण के निमित्त किसी भी चीज का दान करते समय हाथ में काले तिल को लेकर दान करना चाहिए। अगर इस समय आप अन्य वस्तुओं का दान न भी कर पाएं तो काले तिल का दान अवश्य ही करें। बताते चलें कि काला तिल भगवान विष्णु जी को प्रिय होने के साथ ही साथ शनि का प्रतीक भी है।

चांदी

शास्त्रों में श्राद्ध के दौरान किसी भी चांदी से निर्मित किसी भी वस्तु का दान करना चाहिए। ऐसा करने से पितरों की आत्मा को शांति मिलती है और पितरों का आशीर्वाद प्राप्त होता है, यही नहीं इससे जीवन में सुख-समृद्धि का आगमन होता है। पुराणों में पितरों का निवास चंद्रमा के ऊपरी भाग में बताया गया है और चांदी का संबंध चंद्र ग्रह से है।

यह भी पढ़ें : गणेश जी की आराधना के लिए बुधवार का दिन क्यों? (Why Lord Ganesha is worshiped on Wednesday)

श्राद्ध पक्ष में वस्त्र

अब बात करें वस्त्र की तो जो व्यक्ति श्राद्ध के समय पितरों के लिए वस्त्र दान करता है उसपर हमेशा ही पितरों की कृपा बनी रहती है। कहते हैं कि श्राद्ध में धोती एवं दुपट्टे का दान बहुत ही शुभ माना जाता है। शास्त्रों में जिक्र है कि हमारी तरह हमारे पितरों की आत्मा पर मौसम के परिवर्तन का प्रभाव होता है इसलिए उन्हें भी मौसम के अनुसार सर्दी, गर्मी के वस्त्र दान किए जाते हैं।

गुड़ व नमक

श्राद्ध के समय गुड़ व नमक दान करना भी बेहद महत्वपूर्ण माना गया है, इससे पितरों की आत्मा को शांति मिलती है और उनके आशीर्वाद से घर में सुख-शांति का वातावरण बना रहता है। बताते चलें कि शास्त्रों के अनुसार नमक के दान से यम का भय भी दूर हो जाता है। गृह-क्लेश को दूर करने के लिए श्राद्ध में इन चीजों का दान जरूर करें।

जूते-चप्पल

आपको सुनकर बेहद अजीब लग रहा होगा लेकिन यह सच है कि श्राद्ध में पूर्वजों की आत्मा की शांति के लिए जूतों चप्पल का दान करना शुभ माना गया है। श्राद्ध पक्ष में जरूरतमंद लोगों को जूते-चप्पल का जरूर दान करना चाहिए।

छतरी

शास्त्रों के अनुसार श्राद्ध में छतरी का दान करना शुभ होता है। ऐसा करने से घर में सुख-शांति और खुशहाली आती है और पितरों की आत्मा को शांति मिलती है।

अपने मनपसंद ज्योतिष से करें संपर्क करने के लिए यहांं क्लिक करें

टैग्स:

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *