Read Home » हिंदी लेख पढ़ें » जीवनशैली और रहन-सहन » बच्चों में एकाग्रता बढ़ाने के लिए क्या करें ?| Ways to improve concentration level in children?

बच्चों में एकाग्रता बढ़ाने के लिए क्या करें ?| Ways to improve concentration level in children?

  • द्वारा
बच्चों में एकाग्रता

आज के समय में अधिकतर पैरेंट्स की ये शिकायत होती है कि उनका बच्चा बहुत चंचल है, पढ़ने में दिल नहीं लगाता या फिर वो अपनी पढ़ाई पर फोकस नहीं कर पाता है आदि। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि बच्चें अधिकतर मोबाइल गेम्स या आउटडोर गेम्स में बीजी हो जाते हैं जिसकी वजह से वो पढ़ने में उतना कांस्नट्रेंट नहीं कर पाते हैं। बच्चों में एकाग्रता की समस्या अब आम हो गई है इसलिए इसको लेकर घबराएं नहीं बल्कि इसका हल निकालें। इसके लिए सबसे ज्यादा जरूरी है कि आप बच्चों की दिल की बात को समझें।

आज हम इस लेख में विशेष रूप से बच्चों में एकाग्रता की समस्या को लेकर बात करेंगे। हालांकि ये समस्या इतनी बड़ी नहीं है पर इसे अनदेखा करना भी सही नहीं होगा। वैसे आज हर माता पिता अपने अपने काम की वजह से काफी ब्यस्त रहते हैं और अपने बच्चों पर उतना समय नहीं दे पाते हैं इसलिए आज हम आपको कुछ ऐसे टिप्स देंगे जिससे ये परेशानी आप आसानी से हल कर पाएंगे।

spark.live पर मौजूद सुप्रिया भूषण से संपर्क करने के लिए क्लिक करें

Spark.live पर मौजूद सुप्रिया भूषण जो कि एक प्रमाणित क्लिनकल मनोवैज्ञानिक हैं, यह प्राइवेट प्रैक्टिस में एनएलपी प्रैक्टिशनर के रूप में काम करती है। इन्होने बच्चे के इलाज में विशेष रूप से ऑटिज़्म, एडीएचडी, व्यवहार संबंधी समस्याएं, विशिष्ट सीखने की विकलांगता, भावनात्मक विचलन जैसी समस्याएं देखने को मिली। यह बच्चे की एकाग्रता की समस्या में आपकी मदद कर सकती हैं।

यह भी पढ़ें : ऑनलाइन लर्निंग: यह कैसे काम करता है? |Online Learning: How Does It Work?

बच्चों में एकाग्रता की समस्या | Concentration problem in children

एक्सपर्ट का कहना है कि बच्चों की उम्र जितनी कम होती है, उतना ही उनका मन चंचल होता है। वहीं जैसे जैसे इनकी उम्र बढ़ती है वैसे वैसे उनकी चंचलता कम होती जाती है। ऐसे में सवाल ये आता है कि बच्चों में एकाग्रता टीवी देखने या फिर गेम खेलने समय इतनी ज्यादा कैसे हो जाती है और पढ़ते समय कम क्यों ?

इसे समझने के लिए आपको पहले तो बच्चों की ओर से सोचना होगा। ये चीज तो आप भी समझते होंगे कि हम अक्सर उन्हीं चीजों में ज्यादा ध्यान देते हैं, जो हमें अच्छा लगता है या जिसको करने के लिए हमें ज्यादा एनर्जी खर्च नहीं करनी पड़ती है। तो जब बच्चों के पढ़ाई पर ध्यान देने की बात आती है, तब उनको इसके लिए ज्यादा मानसिक ऊर्जा या दबाव देने की जरूरत पड़ती है। क्योंकि वह पढ़ाई से जुड़ी चीजों को नहीं जानते और समझने की जरूरत होती है, इसलिए वो पढ़ाई में उतना ध्यान नहीं लगा पाते हैं और वो बोर होने लगते हैं।

बच्चों में एकाग्रता बढ़ाने के टिप्स | Tips of improving concentration level in children

वैसे इन समस्याओं से घबराएं नहीं आज हम आपको बताएंगे कि आखिर बच्चों में एकाग्रता कैसे बढ़ाए जा सकते हैं

प्रोजेक्ट ट्रिक्स

आजकल स्कूल में बच्चों को ज्यादातर प्रोजेक्ट वर्क दिया जाता है इसलिए उनको कुछ ऐसी ट्रिक्स के बारे में बताएं जिससे वो आसानी से व इंजॉय करते हुए करें। इसके लिए आप उनके प्रोजेक्ट वर्क को कई हिस्सों में बांट लें, जिसके बाद एक एक भाग को करने से वो बोर नहीं होंगे।

ज्यादा निर्देश न दें

कई बार हम देखते हैं कि माता पिता की आदत होती है कि वो बात बात पर अपने बच्चे को पढ़ाई को लेकर बहुत सारे निर्देश देने लगते हैं। मनुष्य की प्रकृति ऐसी होती है कि वह ज्यादा हिदायत सुनना पसंद नहीं करता। तो वो तो बच्चे ही है, उन्हें यह कैसे अच्छा लगेगा। ऐसे में आप उन्हें होमवर्क के दौरान ये कहें कि कौन-सा सबजेक्ट तुम्हें ज्यादा पसंद हैं, वह वाला पहले कर लो फिर थोड़ा ब्रेक लेकर तुम जो सबजेक्ट चुनना चाहो वह करो।

समय की पाबंदी

ध्यान रहे कि समय की पाबंदी, यह बेहद ही मुश्किल काम होता है। पर इससे कई चीजें आसान भी हो जाती है। अगर आप बच्चे के खेलने, किताब पढ़ने, गेम्स खेलने सबके लिए समय बांट दें, तो उसे कोई काम करने में बोरियत महसूस नहीं होगी। वह समय पर काम करना भी सीख जाएगा और हर काम को एन्जॉय करके करेगा।

मेमोरी गेम्स खेलें

कोशिश करें कि आप खेल-खेल में भी अपने बच्चों में एकाग्रता बढ़ाने की सीख दे सकते हैं। जैसे की कुछ मेमोरी गेम्स उनके साथ खेलें। कुछ बच्चों को एक साथ बैठाएं। पहले बच्चे को एक नाम बताएं, फिर दूसरे बच्चे को उस नाम के साथ दूसरा नाम जोड़ने के लिए कहे। इस तरह चेन बढ़ाते रहें और देखें कि हर बच्चा कितने नामों को एक साथ बता रहा है। इससे उनका मेमोरी पावर बढ़ेगा। साथ ही मन को एकाग्र करने की शक्ति भी बढ़ेगी।

यह भी पढ़ें :  बच्चों के लिए क्यों बेस्ट हैं ऑनलाइन कक्षाएं?|Online classes for kids

मेडिटेशन करवाएं

मेडिटेशन भी एकाग्रता बढ़ाने में बेहद महत्वपूर्ण योगदान देता है, यह योग अभ्यास का एक अंग होता है। जो सदियों को मन को एकाग्र करने का सबसे बड़ा साधन माना जाता रहा है। इसलिए आप अपने बच्चे को कम से कम दिन में 10-15 मिनट तक ध्यान करना सिखाएंगे, तो उसे हर काम को एकाग्रता से करने में आसानी होगी।

योगासन

आप चाहे तो ध्यान की तरह ही योगासन भी करा सकते हैं कुछ ऐसे आसन होते हैं जो न सिर्फ मन को एकाग्रचित्त करने में मदद करते हैं, बल्कि मेमोरी पावर को बढ़ाने में भी मदद करते हैं। इनमें प्राणायाम, मुद्रा, आसन बहुत कुछ शामिल होते हैं। यही कारण है कि आज के समय में स्कूलों में योग को एक्स्ट्रा-करीकुलर एक्टिविटीज में शामिल किया गया है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *