Read Home » हिंदी लेख पढ़ें » स्वास्थ्य और तंदुस्र्स्ती » योग निद्रा क्या है, इसे करने से क्या होते हैं लाभ ? (What is Yoga Nidra? )

योग निद्रा क्या है, इसे करने से क्या होते हैं लाभ ? (What is Yoga Nidra? )

  • द्वारा
योग निद्रा

आपमें से कई लोगों ने योग निद्रा के बारे में सुना होगा लेकिन कुछ लोग इसके बारे में शायद नहीं जानते होंगे। अगर आपको याद होगा तो कुछ समय पहले ही पीएम मोदी ने भी इसके बारे में बात की थी। उन्होने कहा था कि जब भी समय मिलता है, मैं हफ्ते में 1-2 बार योग निद्रा का अभ्यास करता हूं। योग निद्रा शरीर को स्वस्थ और मन को प्रसन्न रखता है, साथ ही तनाव और चिंता को कम करता है। इसलिए आज हम आपको विशेष रूप से योग निद्रा के बारे में विस्तृत जानकारी देने जा रहे हैं ताकि आप भी इसका अभ्यास करके तनावमुक्त रह सके।

क्या है योग निद्रा| What is yoga nidra

योग निद्रा को एक तरह से आध्यात्मिक नींद भी कहा जा सकता है। क्योंकि यह सोने व जागने के बीच की ऐसी अवस्था है जिसमें व्यक्ति अपने शरीर को आराम प्रदान कर एक नई ऊर्जा को संरक्षित करता है। हालांकि शुरूआत में जब आप इसका अभ्यास करते हैं तो आप कुछ समय के लिए सो भी सकते है, लेकिन धीरे-धीरे आपको इसे सही से करने का तरीका पता चल जाता है। इसे करते समय आप जमीन पर आराम से लेट जाएं और अपनी सांसों पर ध्यान देते हुए, अंर्तमन में झांकने का प्रयास करें।

कुछ समय बाद आप शांति महसूस करने लगेंगे। इसी अवस्था को योग निद्रा कहा जाता है। योग गुरूओं का मानना है कि कुछ समय की योग निद्रा आपकी घंटों की नींद से प्राप्त हुए आराम के सामान ही होती है। योग निद्रा को लगातार करने से आपका मस्तिष्क पहले की अपेक्षा अधिक सक्रिय हो जाता है। यही नहीं योग के अन्य आसनों को करने के बाद जब आप ये आसन करते हैं तो आपका शरीर थकान रहित हो जाता है और आपकी ऊर्जा का स्तर नियत्रंण में आ जाता है।

यह भी पढ़ें : इन योगासन के जरिए बढ़ाएं अपना कद (Increase your height with yoga)

कैसे करें योग निद्रा?

योग निद्रा क्या है जानने के बाद यह जानना बेहद जरूरी है कि सिखने व करने के लिए किसी योग विशेषज्ञ की मदद लेनी चाहिए। किसी योग विशेषज्ञ के निर्देशन में आपको योग निद्रा का लाभ अधिक मिल पाता है। वैसे आप चाहे तो इसे खुद से भी कर सकते हैं लेकिन इसके सही स्तर तक पहुंचने के लिए आपको लंबा समय लग सकता है। योग निद्रा के अभ्यास के लिए आप खुली जगह को चुनें। यह ऐसी जगह होनी चाहिए जहां पर आपको कोई परेशान न करें व आप आसानी से योग निद्रा के अभ्यास को कर पाएं।

इसे करने के लिए आपको पहले ढीले कपड़े पहनने होंगे, इसको करने से पहले जमीन पर बिछाने के लिए कंबल या कोई अन्य कपड़े की भी आवश्यकता होती है। इसके बाद आप पीठ के बल लेट जाएं। आंखों को बंद कर लें। शुरू में गहरी श्वास लेते हुए धीरे-धीरे सामान्य अवस्था में आएं। इसके बाद आपको अपने मन व मस्तिष्क को शांत करना होगा और दिमाग में चलने वाले सभी विचारों को भूल जाना होगा।

इसके क्या होते हैं लाभ

ये बात सच है कि आज के इस आधुनिक वातावरण में हर दूसरा व्यक्ति तनाव में जी रहा है इसके पीछे एक बड़ी वजह ये है कि किसी के पास वक्त नहीं है। जिसकी वजह से वो अपने आप को समय नहीं दे पाता है। तनाव व अवसाद होने की वजह से लोग अन्य बीमारियों की चपेट में भी आ जाते हैं। इस तरह की समस्याओं से बचने के लिए योग निद्रा एक कारगर उपाय मानी जाती है। हालांकि ये भी बता दें कि इसे रोजाना करके आप कई बीमारियों को दूर कर सकते हैं। तो आइए जानते हैं इसके क्या होते हैं फायदे

यह भी पढ़ें : रीढ़ की हड्डी के लिए बेस्ट हैं ये 4 योगासन (Yoga online for Spinal health)

इसे करने से मस्तिष्क को आराम पहुंचता है।

योग की अन्य मुद्राओं को पूरा करने के बाद इसे करने से शरीर का तापमान सामान्य हो जाता है।

इसकी मदद से विभिन्न योगासनों से प्राप्त ऊर्जा को नियंत्रित करके तंत्रिका तंत्र के कार्य को सुचारू किया जा सकता है।

इसे करने से एकाग्रता में बढ़ोतरी होती है, जिसके बाद आप किसी भी काम को करने में एकाग्र हो पाते हैं।

योग निद्रा से आपके मस्तिष्क की थकान दूर होती है। जिसके प्रभाव स्वरूप आप तनाव मुक्त होते हैं।

आपके तंत्रिका तंत्र का कार्य सुचारू होने से शरीर के अन्य अंगों की कार्यक्षमता बढ़ जाती है।

Spark.live पर मौजूद योगगुरू डॉ मोहित से संपर्क करने के लिए यहां क्लिक करें

सर्वे में बताया गया है कि जो नियमित रूप से इसे करते हैं उन सभी का मस्तिष्क सोने की अवस्था के समान आराम की स्थिति में पहुंच गया था, जबकि वह लोगों सोए नहीं थे। इससे पता चला कि योग निद्रा से आप अपने मस्तिष्क को नियत्रंण में कर सकते हैं और अपनी कार्यक्षमता को बढ़ा सकते हैं। यह ध्यान करने का बेहद ही सरल तरीका है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *