Read Home » हिंदी लेख पढ़ें » स्वास्थ्य और तंदुस्र्स्ती » मनोग्रसित बाध्यता विकार (OCD) क्या है? (What Is Obsessive Compulsive Disorder?)

मनोग्रसित बाध्यता विकार (OCD) क्या है? (What Is Obsessive Compulsive Disorder?)

मनोग्रसित बाध्यता विकार

आजकल की भागदौड़ भरी ज़िंदगी में लोगों को कई तरह की मानसिक समस्याओं से जूझना पड़ता है, जिसमें से एक मनोग्रसित बाध्यता विकार यानि Obsessive Compulsive Disorder है। इसे आसान शब्दों में ओसीडी (OCD) कहा जाता है। इस बीमारी से ग्रसित व्यक्ति का अपने दिमाग पर काबू नहीं रहता है और वह बार बार एक ही चीज़ के बारे में सोचता रहता है। दूसरे शब्दों में कहें तो इस बीमारी में लोगों के दिमाग पर एक डर का साया हो जाता है, जिससे वह निकलने में सक्षम नहीं होता है। ऐसे में यदि आपके साथ भी कुछ ऐसा हो रहा है, तो आपको इसके लक्षण और कारणों के बारे में ज़रूर जानना चाहिए, जिसके बारे में हम इस आर्टिकल में बता रहे हैं।

मनोग्रसित बाध्यता विकार (OCD) के प्रकार और लक्षण

किसी भी रोग की पहचान करने के लिए सबसे पहले यह ज़रूरी हो जाता है कि उसके लक्षणों के बारे में जाना जाए, तो ऐसे में नीचे आपको मनोग्रसित बाध्यता विकार (OCD) के लक्षणों के बारे में बताया जा रहा है- 

  • एक ही चीज़ को बार बार सोचना
  • किसी बात को लेकर दिमाग में डर बैठ जाना
  • शरीर से बदबू का आना।
  • दिमाग में बुरे विचार का आना। 
  • एक ही काम को बार बार करना।
  • अपने आप को या किसी दूसरे को नुकसान पहुंचाना।
  • अप्रिय घटनाओं का डर होना।
  • बार बार नहाने की लत लगना।
  • शारीरिक गतिविधियों को बार बार दोहराना, जैसे- उठना या बैठना।

अब बात ओसीडी यानि मनोग्रसित बाध्यता विकार के प्रकारों की करते हैं, जिनकी चर्चा निम्नलिखित है- 

  • बार-बार चेकिंग करना
  • भ्रम होना
  • बदबू आना
  • चीज़ों को जमा करना
  • डरावने विचार

उपरोक्त प्रकारों के अलावा ओसीडी के कई अन्य प्रकार भी हो सकते हैं, जिन्हें मरीज़ आसानी से महसूस कर सकते हैं।

मनोग्रसित बाध्यता विकार (OCD) के कारण और जोखिम

विशेषज्ञों की माने तो मनोग्रसित बाध्यता विकार के तयशुदा कारण नहीं होते हैं, बल्कि अलग अलग मरीज़ों में अलग अलग कारण देखने को मिलते हैं। ऐसे में, हम यहां आपको उन कारणों के बारे में बता रहे हैं, जो सामान्य तौर पर मरीज़ों में देखने को मिलते हैं – 

  • आनुवांशिक कारण- माना जाता है कि मनोग्रसित बाध्यता विकार आनुवांशिक कारण की वजह से भी हो सकता है। उदाहरण के लिए, यदि आपके परिवार में किसी को यह रोग है, तो आपको होने की ज्यादा संभावना हो सकती है।
  • अप्रिय घटना- कई बार लोगों के मन में कोई अप्रिय घटना इतना ज्यादा असर कर जाती है कि उसका दिमागी संतुलन बिगड़ जाता है, जिसकी वजह से वे मनोग्रसित बाध्यता विकार (OCD) के शिकार हो सकते हैं।
  • तनावपूर्ण जीवन- अक्सर देखा जाता है कि मनोग्रसित बाध्यता विकार (OCD) के चपेट में वे लोग आते हैं, जिनके जीवन में तनाव ने जगह बना ली हो। दरअसल, जब कोई व्यक्ति तनाव ग्रस्त होता है, तो उसका अपने दिमाग पर काबू नहीं होता है।

उपरोक्त कारणों के अलावा भी मनोग्रसित बाध्यता विकार (OCD) के कई अन्य कारण हो सकते हैं, जिसे आप आसानी से महसूस किया जा सकता है।

मनोग्रसित बाध्यता विकार (OCD) से ग्रसित व्यक्तियों को कई तरह के जोखिमों का सामना करना पड़ सकता है, क्योंकि उनकी दिमागी हालत ठीक नहीं होती है। ऐसे में अब हम आपको इसके जोखिमों के बारे में बताएंगे- 

  • डिप्रेशन का शिकार हो जाना।
  • बार बार हाथ धोने की वजह से चर्म रोग होना।
  • खुद को नुकसान पहुंचा लेना।
  • रिश्ते खराब हो जाना।
  • सामाजिक कार्यक्रमों में हिस्सा न ले पाना।

मनोचिकित्सक के अनुसार, मनोग्रसित बाध्यता विकार (OCD) का इलाज?

विशेषज्ञों की मानें, तो मनोग्रसित बाध्यता विकार (OCD) का संपूर्ण इलाज फिलहाल संभव नहीं है, लेकिन मनोचिकित्सकों की सलाह से इसके लक्षणों को कम किया जा सकता है। मतलब साफ है कि थेरेपी के ज़रिए इसे कम किया जा सकता है, तो चलिए जानते हैं कि इसके बारे में मनोचिकित्सक क्या सलाह देते हैं?

थेरेपी, एक प्रकार की मनोचिकित्सा है, जो ओसीडी से ग्रस्त कई लोगों के लिए प्रभावी है, जिसका इस्तेमाल अक्सर चिकित्सक करते हैं। बता दें कि सीबीटी थेरेपी का एक प्रकार एक्सपोजर और रिस्पांस प्रिवेंशन (ईआरपी) में धीरे-धीरे आपके लिए संवेदनशील वस्तु या आदतों को आपके सामने लाया जाता है और फिर आपकी सोच को बदला जाता है। हालांकि, यह पूरी तरह से मरीज पर निर्भर करता है कि वह मनोचिकित्सकों को कितना सपोर्ट करता है, वरना यह इलाज भी फेल हो सकता है। इसके अलावा, आपका डॉक्टर आपको कुछ दवाएं दे सकता है, जिसका इस्तेमाल कर आप अपने दिमाग पर कुछ हद तक काबू पा सकते हैं।

मनोचिकित्सक आपकी मदद कैसे कर सकते हैं?

अगर आप या आपका कोई अपना मनोग्रसित बाध्यता विकार (OCD) से पीड़ित हैं, तो आप मनोचिकित्सक की सलाह ले सकते हैं। दरअसल, मनोचिकित्सक आपकी स्थिति को पहचानते हुए आपको ठीक करने की पूरी कोशिश करते हैं, जिसके लिए वे थेरेपी, गेम या फिर अन्य चीज़ों का सहारा ले सकते हैं। इसी कड़ी में रीमा शाह भी भावनात्मक रुप से लोगों को मजबूत बनाने का काम करती हैं, जिनसे आप संपर्क कर सकते हैं। 

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *