Read Home » हिंदी लेख पढ़ें » स्वास्थ्य और तंदुस्र्स्ती » मानसिक रोग क्या है? (What is mental illness?)

मानसिक रोग क्या है? (What is mental illness?)

मानसिक रोग

जब किसी भी व्यक्ति के सोचने, समझने और महसूस करने की क्षमता कम हो जाए, तो उसे मानसिक रोगी कहा जाता है। जी हां, मानसिक रोग (mental illness in hindi) को मानसिक स्वास्थ्य विकार के नाम से भी जाना जाता है। विशेषज्ञों की मानें, तो जब एक व्यक्‍ति ठीक से सोच नहीं पाता और उसका अपने व्यवहार पर काबू नहीं रहता, तो वह मानसिक बीमारी का शिकार हो सकता है। दरअसल, कई लोगों को समय-समय पर घर, ऑफिस या पैसे से संबंधित चिंताए लंबे समय तक सताती रहती हैं, जिसकी वजह से वे धीरे धीरे मानसिक रोग (mental illness) की तरफ खींचे चले जाते हैं। इस आर्टिकल में हम आपको मानसिक बीमारी के लक्षण, कारण और इलाज के बारे में पूरी जानकारी देंगे।

मानसिक रोग (mental illness)  के लक्षण क्या होते हैं?

यूं तो हर मरीज़ में अलग अलग लक्षण पाएं जाते हैं, लेकिन कुछ सामान्य लक्षणों से मानसिक रोग (mental illness in hindi) के बारे में आसानी से पता लगाया जा सकता है, जो निम्नलिखित हैं- 

  • उदासी महसूस करना
  • बेचैनी होना
  • डर महसूस होना
  • मनोदशा में बदलाव होना
  • आत्महत्या का विचार आना
  • दिनचर्या का बदल जाना
  • बहुत कम या ज्यादा नींद आना
  • क्षमता की कमी होना
  • किसी काम में मन न लगना।
  • थकान महसूस होना।
  • नशीली पदार्थों की आदत होना।
  • खान पान में बदलाव आना।

मानसिक रोग (mental illness) के कारण क्या क्या हैं?

मानसिक रोग के कई कारण हो सकते हैं, जिसमें से कुछ प्रमुख कारणों के बारे में नीचे बताया जा रहा है- 

  • अनुवांशिक – मानसिक रोग (mental illness in hindi) का खतरा उन लोगों में ज्यादा होता है, जिनके परिवार में पहले से ही कोई इस बीमारी से ग्रसित हुआ हो। मसलन, यदि आपकी फैमिली में आपके माता-पिता या दादा-दादी को कभी भी मानसिक बीमारी (mental illness) हुई हो, तो आप पर भी इसका खतरा मंडराता रहता है।
  • वातावरण – गर्भावस्था के दौरान ज्यादा तनाव और नशीली पदार्थों के सेवन की वजह से होने वाले शिशु में मानसिक बीमारी (mental illness) की संभावना बढ़ जाती है।
  • मनोवैज्ञानिक – विशेषज्ञों की मानें, तो आपसी रिश्तों में तनाव का बढ़ना, किसी अपने की मौत हो जाना या फिर कोई अप्रिय घटना घटने की वजह से मानसिक रोग (mental illness) हो सकता है।
  • न्यूरोट्रांसमीटर – मानसिक बीमारी (mental illness in hindi) का एक कारण न्यूरोट्रांसमीटर में आया बदलाव भी हो सकता है। बता दें कि न्यूरोट्रांसमीटर मस्तिष्क रसायन हैं, जो संकेतों को आपके दिमाग और शरीर के अन्य भागों तक ले जाते हैं। ऐसे में, जब इन रसायनों से जुड़ा नर्वस सिस्टम ठीक से काम कर देना बंद कर देता है, तो मानसिक बीमारियां (mental illness) पैदा होने लगती हैं।

क्या थेरेपी से मानसिक बीमारी (mental illness) से छुटकारा पाया जा सकता है? 

मानसिक रोग (mental illness in hindi) से छुटकारा पाने के लिए अक्सर मनोचिकित्सकों की सलाह कारगर साबित होती है। दरअसल, मनोचिकित्सक रोगी के मन और दिमाग को आसानी से समझ सकते हैं, जिसके बाद थेरेपी के ज़रिए वे उसे काफी हद तक ठीक कर सकते हैं। विशेषज्ञों की मानें, तो डॉक्टर्स व्यक्तिगत, सामूहिक,व्यवहारिक और डायलेक्टिकल वर्चुअल थेरेपी का इस्तेमाल करके मानसिक रोगी को ठीक कर सकते हैं। बता दें कि रोगी की मानसिक स्थिति को समझने के बाद ही थेरेपी का सहारा लिया जाता है।

मानसिक रोग (mental illness) पर क्या कहते हैं मनोचिकित्सक?

मनोचिकित्सक अक्सर ये कोशिश करते हैं कि मरीज़ों को व्यवहारिक तौर पर ही ठीक कर दिया जाए, क्योंकि मानसिक रोग से ग्रसित व्यक्ति को प्यार और अपनेपन की ज़रूरत होती है। ऐसे में यदि मरीज़ों की देखभाल प्यार से किया जाए, तो उनके ठीक होने की संभावना ज्यादा होती है। इसी संदर्भ में मेंटल हेल्थ विशेषज्ञ विनीता कहती हैं कि मानसिक रोग (mental illness in hindi) के लिए भावनात्मक और व्यक्तिगत थेरेपी से बढ़कर दूसरा कोई इलाज नहीं है। आप इनसे कभी भी संपर्क कर सकते हैं।

निष्कर्ष

अक्सर देखा जाता है कि लोग मानसिक रोग (mental illness) के लक्षणों को पहचानने में असमर्थ होते हैं या फिर उसे नज़रअंदाज़ कर देते हैं, लेकिन ऐसा नहीं करना चाहिए। दरअसल, समय रहते ही मानसिक रोग (mental illness in hindi) के लक्षणों का पता करके उसका इलाज करवाना चाहिए, वरना यह काफी विकट समस्या बन सकती है। आप इसके लिए मानसिक चिकित्सकों की सलाह ले सकते हैं। 

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *