Read Home » हिंदी लेख पढ़ें » स्वास्थ्य और तंदुस्र्स्ती » गर्भावस्‍था के शुरूआती दिनों में कौन से आहार होते हैं स्‍वास्‍थ्‍यवर्धक ?

गर्भावस्‍था के शुरूआती दिनों में कौन से आहार होते हैं स्‍वास्‍थ्‍यवर्धक ?

  • द्वारा
गर्भावस्था

गर्भावस्था का समय एक महिला के लिए बेहद ही स्पेशल होता है, ये एक ऐसा एहसास होता है जो कि उसे मां होने का अनुभव कराता है। जब बच्चा गर्भ में होता है तो हर महिला यही चाहती है कि जन्म के समय उसका बच्चा स्वस्थ और तंदुरुस्त हो इसलिए इस दौरान वो अपने आहार का ध्यान भी रखती हैं। हालांकि कुछ महिलाएं गर्भावस्था ऐसी भी होती हैं जिन्हें पता नहीं होता है कि गर्भधारण करने के बाद क्या और कितनी मात्रा में खाना चाहिए।

इसलिए आज हम आपको कुछ सटिक जानकारी देने जा रहे हैं क्योंकि आधी से ज्यादा महिलाएं तो गर्भावस्था के दौरान खाई जाने वाली चीजों को लेकर काफी कंफ्यूज भी रहती है क्योंकि इन चीजों के साथ कई तरह की भ्रांतियां और मिथक जुड़े हुए हैं। आइए इस लेख के जरिए जानते हैं कि आखिर प्रेगनेंसी में क्या खाना फायदेमंद होता है? व क्या नहीं खाना चाहिए ?

गर्भावस्था में क्या खाना चाहिए ?

डेयरी प्रोडक्ट

कोशिश करें की गर्भावस्था के दौरान दूध, दही छाछआदि डेयरी प्रोडक्ट का प्रयोग करें, क्योंकि कहा जाता है कि इस दौरान गर्भवती महिला के शरीर को रोजाना 1,000 mg कैल्शियम की जरूरत होती है। इससे गर्भवती महिला व उसके गर्भ में पल रहे शिशु का बेहतर विकास होता है।

हरी सब्जियां

गर्भवती महिलाओं को अपने खान-पान में हरी पत्तेदार सब्जियां जरूर शामिल करनी चाहिए। इसलिए पालक, पत्तागोभी, ब्रोकली आदि सब्जियों का सेवन जरूर करें। पालक में मौजूद आयरन गर्भावस्था के दौरान खून की कमी को दूर करता है ।

सूखे मेवे

ये बेहद ही जरूरी है, क्योंकि मेवों में कई तरह के विटामिन, कैलोरी, फाइबर व ओमेगा 3 फैटी एसिड आदि पाए जाते हैं, जो सेहत के लिए अच्छे होते हैं। अगर आपको एलर्जी नहीं है, तो अपने खान-पान में काजू, बादाम व अखरोट आदि को शामिल करें। अखरोट में भरपूर मात्रा में ओमेगा 3 फैटी एसिड होता है।

शकरकंद

गर्भावस्था में शकरकंद खाना भी फायदेमंद हो सकता है। इसमें विटामिन-ए होता है, जो शिशु की देखने की शक्ति को विकसित करने में अहम भूमिका निभाता है। इसके अलावा, इसमें विटामिन-सी, फोलेट और फाइबर भी होता है।

साबूत अनाज

गर्भावस्था के दौरान साबूत अनाज का सेवन जरूर करें, विशेष रूप से अगर आपका दूसरा या तिसरा महीना चल रहा हो तो आपके लिए साबूत अनाज का सेवन फायदेमंद साबित होता है। इससे आपको भरपूर कैलोरी मिलती है, जो गर्भ में शिशु के विकास में मदद करती है। आप साबूत अनाज के तौर पर ओट्स, किनोआ व भूरे चावल आदि को अपने आहार में शामिल कर सकती हैं। इन अनाजों में प्रोटीन की प्रचुर मात्रा पाई जाती है।

यह भी पढ़ें : तेजी से वजन कम करना है तो आज ही से शुरू कर दें इन आहार का सेवन

एवोकाडो

एवोकाडो ऐसा फल है, जिसे हर गर्भवती महिला को खाने की सलाह दी जाती है। इसमें भरपूर मात्रा में फोलेट होता है, जो गर्भ में पल रहे शिशु के मस्तिष्क और उसकी रीढ़ की हड्डी के विकास के लिए बेहद फायदेमंद होता है। यही नहीं इसके अलावा एवोकैडो में विटामिन-के, पोटैशियम, कॉपर, मोनोअनसैचुरेटेड फैट व विटामिन-ई आदि भी मौजूद होता है इसलिए, गर्भवती महिला को रोजाना एक एवोकाडो खाने की सलाह दी जाती है।

अंडा

अंडा को पौष्टिक आहार माना जाता है कहा जाता है कि इसके खाने से शरीर में ऊर्जा बनी रहती है। इसलिए गर्भवती महिलाओं को भी अपने आहार में अंडे को शामिल करना चाहिए। अंडे में प्रोटीन, कोलीन, बायोटीन, कोलेस्ट्रोल, विटामिन-डी और एंटीऑक्सीडेंट पाए जाते हैं। इसके अलावा एक बड़े अंडे में 77 कैलोरी ऊर्जा होती है इसलिए, अंडे को गर्भवती महिलाओं के लिए फायदेमंद माना गया है।

ज्यादा पानी पिएं

इस दौरान पानी का विशेष ध्यान रखना चाहिए सामान्य रूप से हर व्यक्ति को दिन में कम से कम 8 से 10 गिलास पानी पीना चाहिए लेकिन गर्भवती महिलाओं को तो इस नियम का ज्यादा कड़ाई से पालन करना चाहिए। उन्हें पानी की कमी से सिरदर्द, थकान व कब्ज आदि जैसी समस्याएं हो सकती हैं। इसलिए, गर्भवती महिलाओं को हमेशा खुद को हाइड्रेट रखने की सलाह दी जाती है।

फल और फलों का जूस

गर्भावस्था में महिला को तरह-तरह के मौसमी फल खाने चाहिए। हो सके तो उन्हें संतरा, तरबूज व नाशपाती आदि जैसे फलों को अपने आहार में शामिल करना चाहिए। इसके अलावा, इन फलों का रस भी पी सकती हैं। दरअसल, गर्भवती महिला को अलग-अलग चार रंगों के फल खाने की सलाह दी जाती है। वसा और कैलोरी में उच्च खाद्य पदार्थों की जगह रोज फल व सब्जियों के कम से कम पांच हिस्से खाएं। साथ ही पैकेड फ्रूट जूस का सेवन नहीं करना चाहिए।

बिना वसा का मांस

अगर आप मांसाहारी हैं तो गर्भावस्था के दौरान अपने खान-पान में मीट को शामिल करना चाहिए। मांस में भरपूर मात्रा में लौह तत्व (आयरन), जिंक और विटामिन-बी 12 होता है। अक्सर गर्भवती महिलाओं के शरीर में आयरन की कमी हो जाती है तो इसकी वजह से उनके खून में हीमोग्लोबिन का स्तर गिरने लगता है। ऐसे में गर्भवती महिलाओं के लिए मांस का सेवन लाभदायक साबित हो सकता है। हालांकि, गर्भवती महिलाओं को बिना वसा वाले मांस को ही अपने खान-पान में शामिल करना चाहिए।

नैदानिक आहार व पोषण विशेषज्ञ से संपर्क करने के लिए यहां क्लिक करें

गर्भावस्था में अगर आपको भी अपने आहार से संबंधित कुछ संकाएं हैं तो हमारे नेटवर्क पर मौजूद नैदानिक आहार व पोषण विशेषज्ञ राधिका अवस्थी से संपर्क कर सकते हैं। राधिका गर्भावस्था आहार विशेषज्ञ हैं। राधिका अवस्थी जैसे पोषण विशेषज्ञ आपको मधुमेह, पीसीओएस, थायरॉयड और एनीमिया जैसी स्वास्थ्य समस्याओं में आपकी मदद कर सकती हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *