Read Home » हिंदी लेख पढ़ें » जीवनशैली और रहन-सहन » विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस: क्या सच में महामारी की चपेट में है हमारा मानसिक स्वास्थ्य? | Is Our mental health in the grip of epidemic?

विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस: क्या सच में महामारी की चपेट में है हमारा मानसिक स्वास्थ्य? | Is Our mental health in the grip of epidemic?

  • द्वारा
विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस
विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस |World Mental Health Day : 10 अक्टूबर को विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस (World Mental Health Day) मनाया जाता है। अक्सर क्या होता है कि हम छोटी-मोटी बीमारी पर ध्यान नहीं देते हैं खासकर मानसिक बीमारी पर ऐसे में जब तक हमें पता चलता है कि हम मानसिक रूप से स्वस्थ नहीं है तब तक बेहद देर हो जाती है इसलिए वक्त रहते ही हमें सही निर्णय लेना चाहिए। यह भी सच है कि कोरोना काल ने हर किसी का घर से निकलना बंद कर दिया ऐसे में आप चाहे तो मानसिक स्वास्थ्य के लिए ऑनलाइन काउंसलिंग| online counselling for mental health ले सकते हैं।

विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस मनाने का उद्देश्य| World Mental Health Day

मानसिक स्वास्थ्य के लिए ऑनलाइन काउंसलिंग| online counselling for mental health

विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस, मानसिक स्वास्थ को लेकर जागरूकता फैलाने के लिए मनाया जाता है। कई बार क्या होता है कि लोग न जाने कितने कारणों से डिप्रेशन या अन्य मानसिक बीमारियों के चपेट में आ जाते हैं और यह धीरे धीरे इतना बढ़ जाता है कि उन्हें आत्महत्या के ख्याल भी आने लगते हैं। ऐसे में विश्व को मेंटल हेल्थ के प्रति जागरूक करने के उद्देश्य से यह दिन मनाया जाता है।

मानसिक स्वास्थ्य पर पड़ा महामारी का प्रभाव

पिछले कुछ दिनों से कोरोना ने हर किसी को मानसिक व शारीरिक दोनों ही तरह से प्रभावित किया है, लोग घरों में कैद होने को मजबूर हैं। आपस में मिलना-मिलाना और शादी-पार्टी जैसे खुशियां बांटने के तमाम मौके रुके पड़े हैं। कुछ लोग हिम्मत करके मिलना भी चाहते हैं तो अचानक कोरोना बम फूटने के खौफ़ से सहम जाते हैं। एक तरफ कोरोना का ग्राफ बढ़ रहा तो वहीं दूसरी ओर मानसिक रूप से अस्वस्थ लोगों का ग्राफ भी बढ़ता ही जा रहा है जिसे देखकर समाज और सरकार की चिंता और बढ़ रही है।

यही नहीं इसे लेकर संयुक्त राष्ट्र ने भी कहा कि ‘मानसिक स्वास्थ्य सेवाओं की दशकों से उपेक्षा और कमजोरी के बाद, कोरोना महामारी अब परिवारों और समुदायों में अतिरिक्त मानसिक तनाव पैदा करके उनको खतरे में डाल रही है।’ कहा जा रहा है कि अगर महामारी पर नियंत्रण भी पा लिया जाए तो इसके बाद दुःख, चिंता और अवसाद लोगों को प्रभावित करेंगे।

मानसिक स्वास्थ्य के लिए ऑनलाइन काउंसलिंग| online counselling for mental health

कैसे मदद करेगा मानसिक स्वास्थ्य के लिए ऑनलाइन काउंसलिंग | How to Help online counselling for mental health?

यह कहना गलत नहीं होगा कि जिस समाज में हम रह रहे हैं वहां पर लोग मानसिक रोग से पीड़ित व्यक्ति को सीधे पागल का नाम दे देते हैं, जिसकी वजह से लोग अपनी मानसिक बीमारियों को लेकर खुलकर बात नहीं कर पाते हैं। हालांकि इस समय ऑनलाइन का जो क्रेज चल रहा है वो ऐसे विषयों पर खुलकर बात करने का बेहद ही सही विकल्प है। मानसिक स्वास्थ्य के लिए ऑनलाइन काउंसलिंग (online counselling for mental health) के जरिए आपकी पहचान गुप्त रह सके और किसी को इस बारे में पता भी न चलता है। ऑनलाइन मनोचिकित्सक से परामर्श करना एक सही निर्णय है।

Spark.Live पर मौजूद अपने मनपसंद मनोवैज्ञानिकों से ले सकते हैं ऑनलाइन काउंसलिंग

Spark.Live एक बेहतरीन ऑनलाइन कंसल्टेशन प्लेटफॉर्म है यहां पर कई अनुभवी विशेषज्ञ मौजूद हैं जो आपकी समस्या का समाधान चुटकियों में कर सकते हैं। बात करें अगर मानसिक स्वास्थ्य की तो पर मौजूद मनोचिकित्सक परामर्शदाता लब्धी शाह से संपर्क कर सकते हैं। आज के समय में शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति होगा जो तनाव से न जूझ रहा हो, हर तरफ तनाव है और ये जल्द खत्म भी नहीं होता है।

यही कारण है कि अत्यधिक तनाव, चिंता, अवसाद, दूसरों के साथ संघर्ष, आक्रामकता, नींद की कठिनाइयों, अव्यवस्थित खाने और यहां तक ​​कि पीटीएसडी जैसी मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं को उत्पन्न करता है। मानसिक स्वास्थ्य की देखभाल के लिए लब्धी शाह का मानना है कि यह समय एक प्रयास करने का है जो लोग चिकित्सा करते हैं, वे अपने जीवन में पहली बार ऐसा कर रहे हैं।

संदर्भ :स्टूडेंट्स के मानसिक स्वास्थ्य के लिए काउंसलिंग पोर्टल शुरू

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *